इन फ्रंटलाइन कर्मचारियों और ऑफिसर्स को मिलेगा इंसेंटिव, जारी किया गया संकल्प पत्र

seventh Pay Commission: बिहार सरकार ने कोरोना अस्पताल व केयर सेंटर पर तैनात पर्यवेक्षक और पुलिस के मनोबल बढ़ाने के लिए भत्ता देने का निर्णय किया है। कोविड केयर और अस्पतालों में नियुक्त किए गए पुलिस के जवानों और अफसरों सहित पर्यवेक्षकों को प्रोत्साहन के रूप में 400 से 600 रुपए तक दिए जाएंगे। राज्य की सरकार ने यह भी तय किया है कि कितनी प्रोत्साहन राशि दी जाए। इस दी जाने वाली सैलरी के हिसाब से दो हिस्सों में बांटा गया है।

इस राशि का भुगतान न्यूनतम 400 रुपए प्रतिदिन होगा और अधिकतम 600 रुपए प्रतिदिन होगा। सरकार ने यह व्यवस्था इसलिए की है कि फ्रंटलाइन वर्क्स के रूप में काम कर रहे कर्मचारियों का मनोबल बढ़ा रहे। इस प्रोत्साहन राशि को दिए जाने के लिए राज्य के गृह विभाग ने 9 मई, 2021 यानी रविवार को एक संकल्प भी जारी किया।

इस संकल्प के अनुसार कोरोना के इलाज के लिए चिन्हित हॉस्पिटल्स के अतरिक्त कोविड केयर सेंटर में नियुक्त पुलिस के जवानों और अधिकारियों के साथ ही पर्यवेक्षण को विशेष प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

यह विशेष प्रोत्साहन राशि के भुगतान के लिए कुछ नियम भी निर्धारित किए हैं। यह प्रोत्साहन राशि सिर्फ 31 जुलाई, 2021 तक के लिए ही है। इसे सिर्फ नियमित सरकारी कर्मचारियों को ही दिया जाएगा। एक वर्ष के दौरान विशेष प्रोत्साहन राशि प्रतिनियुक्त ऑफिसर या कर्मचारी के एक महीने के मूल वेतन से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

इससे पहले बिहार में राज्य सरकार ने को कोरोना की वजह से डॉक्टर्स और इससे संबंधित स्टाफ के लिए तीन महीने की अतिरिक्त नियुक्ति का प्रावधान किया था। इन तीन महीनों के लिए जो नियुक्तियां की जाएंगी उनके लिए राज्य सरकार ने मानदेय तय कर दिया है। इसमें स्पेशलिस्ट डॉक्टर पीजी को 7000 रुपए रोज, स्पेशलिस्ट डॉक्टर डिप्लोमा को 5000 रुपए रोजाना, एमबीबीएस डॉक्टर को 4000 रुपए रोजाना, नर्स को बीएससी नर्सिंग को 2000 रुपए रोजाना, जीएनएम को 1500 रुपए रोजाना और एएनएम को 1000 रुपए रोजाना दिया जाएगा।




.