छोटे गांव की खुशबू ने ऐसे तय किया UPSC तक का सफर

UPSC: यहां हम आपको एक छोटे से गांव से निकलकर अपना सपना पूरा करने वाली खुशबू गुप्ता के बारे में बताएंगे, जिन्होंने पहले IIT और फिर UPSC में अपनी जगह बनाई। खुशबू गुप्ता पंजाब के भदौड़ गांव की रहने वाली हैं। उन्होंने कक्षा 12वीं तक की शिक्षा अपने गांव से ही प्राप्त की है। हालांकि, कक्षा 12 के बाद खुशबू दिल्ली आ गईं और IIT Delhi से बैचलर्स की डिग्री पूरी की है। ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद खुशबू अपने करियर को लेकर असमंजस में थी। उनके पास तीन विकल्प थे लेकिन वह सही रास्ता नहीं सुन पा रही थीं। ऐसे में खुशबू ने अपने पिता से सलाह ली और उनकी मदद से खुशबू ने अपना आगे का रास्ता चुन लिया था। यह रास्ता उन्हें सिविल सेवा परीक्षा की ओर ले गया। फिर क्या था, खुशबू ने यूपीएससी परीक्षा के लिए तैयारी शुरू कर दी।

यूपीएससी परीक्षा के पहले अटेम्प्ट में तो खुशबू असफल रही थीं लेकिन साल 2018 के अपने दूसरे अटेम्प्ट में उन्होंने इस परीक्षा में 80वीं रैंक प्राप्त की थी। बता दें कि खुशबू एक ऐसी जगह से ताल्लुक रखती हैं, जहां पढ़ाई को लेकर ज़्यादा जागरूकता नहीं है। खुशबू बचपन से ही पढ़ने में काफी अच्छी थीं इसलिए उनके परिवार वालों ने उनका भरपूर सहयोग किया। वह अपने गांव की पहली महिला हैं, जिन्होंने IIT से इंजीनियरिंग की और यूपीएससी परीक्षा भी पास की।

UPSC: भागलपुर के श्रेष्ठ अनुपम ने दूसरे अटेम्प्ट में पूरा किया माता पिता का सपना, यहां जानें उनकी स्ट्रेटजी

खुशबू बताती हैं कि वह पढ़ने में तेज़ तो थी लेकिन उनका बैकग्राउंड इंजीनियरिंग था इसलिए यूपीएससी परीक्षा के लिए उन्हें बेसिक्स से शुरुआत करना पड़ा। उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के लिए लगभग दो साल दिए थे। इस दौरान उन्होंने हर रोज का एक लक्ष्य तैयार कर लिया था और उसका नियमित रूप से पालन किया करती थीं। खुशबू का मानना है कि आप अपनी क्षमता के अनुसार ही अपने लक्ष्य तैयार करें लेकिन फिर उसके लिए हर रोज मेहनत करें। इसके अलावा खुशबू टॉपिक का रिवीजन, मॉक टेस्ट और निबंध लिखने की प्रैक्टिस करने की सलाह देती हैं।




.