दंतेवाड़ा की रहने वाली नम्रता ने इस तरह तय किया आईएस बनने का सफर

UPSC: आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताएंगे जिन्होंने बचपन में हुई एक घटना के बाद अपने जन्मभूमि की सेवा करने का फैसला लिया था। फिर साल 2018 में यूपीएससी के तीसरे अटेम्प्ट में 12वीं रैक के साथ उन्होंने परीक्षा में टॉप किया था। नम्रता छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा की रहने वाली हैं। इनके पिता एक बिजनेसमैन हैं, जबकि इनकी माता होममेकर हैं। नम्रता ने कक्षा 10 तक की शिक्षा दंतेवाड़ा के निर्मल निकेतन स्कूल से प्राप्त की है। इसके बाद वह भिलाई चली गई।

केपीएस भिलाई स्कूल से उन्होंने कक्षा 11 और कक्षा 12 की पढ़ाई पूरी की है। फिर उन्होंने भिलाई इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग में बैचलर्स की डिग्री हासिल की। डिग्री पूरी करते ही उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी। बता दें कि उन्होंने बचपन में दंतेवाड़ा के एक पुलिस स्टेशन में हुए माओवादी हमले को देखने के बाद आईएएस अधिकारी बनकर बस्तर की सेवा करने का फैसला किया था।

साल 2015 में नम्रता ने यूपीएससी परीक्षा का पहला अटेम्प्ट दिया और असफल रहीं। असफलता से निराश होने की जगह उन्होंने अपनी गलतियों में सुधार किया और फिर अगले साल दूसरा अटेम्प्ट दिया। इस परीक्षा में उन्होंने 99 रैंक हासिल की थी। इसके साथ ही वह बस्तर की ऐसी पहली महिला बनीं जिन्होंने यह मुकाम हासिल किया था।उन्हें रैंक के अनुसार आईपीएस सर्विस मिली और वह सरदार वल्लभभाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी, हैदराबाद से ट्रेनिंग करने लगी। ट्रेनिंग के साथ-साथ उन्होंने यूपीएससी की तैयारी जारी रखी। फिर नम्रता ने साल 2018 के अपने तीसरे टेस्ट में बेहतर प्रयास किया और इस बार उन्होंने 12वीं रैंक हासिल कर टॉप कर दिखाया। आखिरकार उनका आईएएस बनने का सपना पूरा हुआ।

UPSC: पहले अटेम्प्ट में पाई 5वीं रैंक, सृष्टि ने यूपीएससी की तैयारी के दौरान सोशल मीडिया से बना ली थी दूरी

नम्रता एक ऐसी जगह से ताल्लुक रखती हैं जहां यूपीएससी की कोचिंग मिलना आसान नहीं था। उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के लिए ऑनलाइन कोचिंग का सहारा लिया। हालांकि, दंतेवाड़ा जिला प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे हैं लक्ष्य कोचिंग सेंटर से उन्होंने इंटरव्यू की ट्रेनिंग ली थी।

नम्रता का मानना है कि यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के लिए आत्मविश्वास सबसे ज़्यादा ज़रूरी होता है। साथ ही आपके अंदर धैर्य और लगन होना चाहिए। इसके अलावा वह कहती हैं कि प्रीलिम्स, मेन्स और इंटरव्यू की तैयारी एक साथ करनी चाहिए। वह यूपीएससी के लिए टेस्ट सीरीज देने के साथ रोज करंट अफेयर्स पढ़ने की भी सलाह देती हैं।




.