नौकरी की तलाश करने वालों के लिए अच्छी खबर, जानिए जून में कौन-कौन से सेक्टर में बढ़ा रोजगार

यदि आप नौकरी की तलाश कर रहे हैं तो यह खबर आपके काम की हो सकती है। इस खबर के माध्यम से आपको चल जाएगा कि पिछले महीने कौन-कौन से सेक्टर में लोगों को ज्यादा नौकरी मिली है। दरअसल, देश में कोरोना के केसों की संख्या में कमी के साथ लॉकडाउन में छूट मिलती जा रही है। इससे आर्थिक गतिविधियों में लगातार सुधार हो रहा है। यही कारण है कि जून में अधिकांश सेक्टर्स में हायरिंग गतिविधियों में पॉजिटिव ग्रोथ रही है।

नौकरियों से जुड़ी वेबसाइट SCIKEY मार्केट नेटवर्क के मुताबिक, जून में नॉन-टेक सेक्टर्स में भी नई नौकरियां पैदा हुई हैं। SCIKEY के मुताबिक, जून में आईटी सेक्टर में हायरिंग गतिविधियों में सबसे ज्यादा तेजी रही है। इसके अलावा अन्य सेक्टर्स में भी सुधार दर्ज किया गया है। मई के मुकाबले जून में बैंकिंग सेक्टर में सबसे ज्यादा 21% की ग्रोथ रही है। आईटी और बीपीओ दोनों सेक्टर में 18%-18% की ग्रोथ रही है। फार्मास्यूटिकल्स सेक्टर में नौकरियों से जुड़ी गतिविधियों में 16.9% की ग्रोथ रही है। वहीं हेल्थकेयर सेक्टर में नौकरियों की डिमांड में 20% का सुधार आया है।

दूसरे सेक्टर्स में नौकरी तलाशने वालों के लिए उम्मीद बढ़ी: यह आंकड़े उन लोगों के लिए उम्मीद बनकर आए हैं जो कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित सेक्टर्स से जुड़े हैं और दूसरे सेक्टर्स में नौकरी तलाश कर रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक इंश्योरेंस, रिटेल, एजुकेशन और एफएमसीजी जैसे सेक्टर्स में भी हायरिंग गतिविधियों में सुधार हुआ है। हायरिंग गतिविधियों में इंश्योरेंस सेक्टर में 12%, रिटेल सेक्टर में 5%, एजुकेशन सेक्टर में 12.1% और एफएमसीजी सेक्टर में 16% की ग्रोथ रही है। वहीं, टेलीकॉम सेक्टर में मई के मुकाबले जून में हायरिंग गतिविधियों में 8% की गिरावट रही है।

सेल्स-मार्केटिंग की नौकरियों की ज्यादा डिमांड: डाटा के मुताबिक, जून में सेल्स, एचआर और मार्केटिंग से जुड़ी नौकरियों की ज्यादा डिमांड रही है। सेल्स से जुड़ी नौकरियों में 20%, एचआर से जुड़ी नौकरियों में 19.9% और मार्केटिंग से जुड़ी नौकरियों में 12.1% की ग्रोथ रही है। सॉफ्टवेयर डेवलपर से जुड़ी नौकरियों में 11.8%, साइट इंजीनियरिंग से जुड़ी नौकरियों में 11.8%, फाइनेंस से जुड़ी नौकरियों में 9.9% और प्रोजेक्ट मैनेजर से जुड़ी नौकरियों में 4.9% की ग्रोथ रही है।

टियर-1 शहरों में डबल डिजिट ग्रोथ: लॉकडाउन की ज्यादा मार झेलने वाले टियर-1 शहरों में हायरिंग गतिविधियों में डबल डिजिट की ग्रोथ रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, हायरिंग गतिविधियों में मुंबई में 12%, पुणे में 6%, दिल्ली में 1%, चेन्नई में 12%, हैदराबाद में 12% और कोलकाता में 20% की ग्रोथ रही है। हालांकि, बेंगलुरु में 2% की गिरावट दर्ज की गई है।

छोटे शहरों में अच्छा सुधार: जून में जयपुर और अहमदाबाद जैसे छोटे शहरों में हायरिंग गतिविधियों में अच्छा सुधार रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, हायरिंग गतिविधियों में जयपुर में 30% और अहमदाबाद में 22% का सुधार रहा है। फ्रेश ग्रेजुएट्स की हायरिंग में 18% और लीडरशिप स्तर पर 8% का सुधार रहा है। SCIKEY के को-फाउंडर करुणजीत कुमार धीर का कहना है कि पिछले महीने हायरिंग गतिविधियों में आई तेजी नौकरी की तलाश करने वालों के लिए राहत की खबर है।




.