बार-बार किया असफलताओं का सामना फिर नूपुर ने यूपीएससी में हासिल की 11वीं रैंक

UPSC: कहते हैं मन के हारे हार और मन के जीते जीत। इन पंक्तियों को चरितार्थ करती हैं नूपुर गोयल जिन्होंने जीवन में मिलने वाली चुनौतियों के सामने कभी घुटने नहीं टेके। दिल्ली की रहने वाली नूपुर ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा नरेला के डीएवी सेंटेनरी पब्लिक स्कूल से प्राप्त की है। इसके बाद उन्होंने दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन में बी.टेक किया। फिर इग्नू से उन्होंने पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स की डिग्री हासिल की है।

नूपुर ने साल 2014 में अपने ग्रेजुएशन के दौरान ही पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी थी। पहले प्रयास में उन्होंने प्रीलिम्स और मेन्स तो क्लियर कर लिया था लेकिन इंटरव्यू में वह असफल रहीं थीं। फिर 2015 के अपने दूसरे प्रयास में वह प्रीलिम्स परीक्षा भी नहीं पास कर पाईं। यह असफलता उनके लिए किसी झटके से कम नहीं था। उन्होंने तुरंत ही अपनी स्ट्रेटजी में बदलाव किया और अगले अटेम्प्ट में प्रीलिम्स और मेन्स क्लियर कर लिया लेकिन इस बार भी वह इंटरव्यू क्लियर करने में असफल रहीं।

नूपुर साल 2017 के अपने चौथे अटेम्प्ट में एक बार फिर प्रीलिम्स क्लियर नहीं कर पाई। इस बात से निराश होने की जगह वह पूरे आत्मविश्वास के साथ यूपीएससी की तैयारी में लगी रहीं। साल 2018 में अपने पांचवें अटेंप्ट में एक बार फिर से इंटरव्यू तक पहुंचने के बाद भी वह असफल रहीं। इसी बीच उन्होंने इंटेलिजेंस ब्यूरो की परीक्षा भी दी थी। इस परीक्षा के लिए उन्होंने कोई खास तैयारी नहीं की थी लेकिन यूपीएससी की तैयारी की वजह से वह इस परीक्षा में सफल रहीं। फिर साल 2019 में उन्होंनेे इंटेलिजेंस ब्यूरो की नौकरी शुरू कर दी लेकिन साथ ही यूपीएससी की तैयारी भी करती रहीं।

इस दौरान नूपुर का परिवार भी उनके साथ खड़ा रहा। पांच बार असफलता हाथ लगने के बाद भी उनके परिवार वालों ने उन्हें हमेशा कोशिश करने के लिए प्रेरित किया। आखिरकार उनकी सालों की मेहनत रंग लाई, 2019 में उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा में 11वीं रैंक हासिल की और अपना सपना साकार किया। नूपुर कहती हैं कि सिविल सर्विसेज का सपना केवल किसी इंडिविजुअल का न होकर जब सबका होता है तो वह आपको आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है। कठिन समय में जब आप हिम्मत हारने लगे तो खुद को याद दिलाएं कि आपसे इतने लोगों की आशाएं जुड़ी हैं। आप अपना कदम पीछे नहीं ले सकते हैं।

UPSC: पूर्णा ने पांच साल की उम्र में ही खो दी थी आंखों की रोशनी, यूपीएससी परीक्षा पास कर बनीं आईएएस

यूपीएससी की तैयारी को लेकर नूपुर कहती हैं कि पढ़ाई के लिए अपने सोर्स लिमिटेड रखना चाहिए। इसके साथ ही प्रतिदिन न्यूज़पेपर अवश्य पढ़ें और नोट्स भी तैयार करें। इसके अलावा सबसे महत्वपूर्ण है आपका आत्मविश्वास। आपके जीवन में चाहे जितनी भी असफलताएं आएं लेकिन उससे निराश होने की जगह पूरे आत्मविश्वास के साथ मुश्किल हालातों का डटकर सामना करना चाहिए।




.