10वीं के अंको के आधार पर होगा 12वीं के छात्रों का मूल्यांकन, इस राज्य ने लिया फैसला

Board Exam Result 2021: मध्य प्रदेश, एमपी बोर्ड कक्षा 12 के परिणाम 2021 की गणना कक्षा 10 के परिणाम के आधार पर की जाएगी, मुख्यमंत्री ने कल यह जानकारी दी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में निजी एवं शासकीय शैक्षणिक एवं प्रशिक्षण संस्थानों के संबंध में कार्ययोजना पर चर्चा के लिए कैबिनेट की बैठक ली।

कक्षा 12 के परिणाम पर बोलते हुए, सीएम ने सलाह दी है कि छात्रों का मूल्यांकन उनके कक्षा 10 के परिणामों के आधार पर किया जाए। उसी के लिए, 5 विषयों में से सर्वश्रेष्ठ के अंकों पर विचार किया जाएगा।

उन्होंने आगे कहा है कि जो छात्र परिणाम से संतुष्ट नहीं हैं या अपने परिणाम में सुधार करना चाहते हैं, उन्हें ऐसा करने का अवसर दिया जाएगा। परीक्षाएं कोरोना का प्रभाव कम होने पर आयोजित की जाएंगी और छात्र उसमें भाग ले सकते हैं। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि मप्र में एक जुलाई से स्कूल नहीं खुलेंगे।

स्कूल एजुकेशन डिपार्टमेंट, एमपी ने अपने ऑफिशियल ट्वीट हैंडल से ट्वीट किया कि ‘ सीएम ने कहा है कि कक्षा 12वीं के अंकों का निर्धारण कक्षा 10वीं के विभिन्न विषयों में प्राप्त अंकों को बेस्ट ऑफ फाइव के आधार पर किया जाए। विद्यार्थी परिणाम सुधारना चाहते हैं तो वे परीक्षा देकर परिणाम सुधार सकते हैं। प्रदेश में एक जुलाई से स्कूल नहीं खुलेंगे।’

बैठक में लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बताया कि नियमित के साथ-साथ सेल्फ स्टडी एग्जाम के सभी छात्रों को उत्तीर्ण किया जाएगा। कक्षा 12 के छात्रों के मूल्यांकन के लिए विस्तृत कार्य योजना जल्द ही बोर्ड द्वारा अलग से जारी की जाएगी।

MP Board Exams 2021 को पीएम नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद रद्द कर दिया गया था, जहां उन्होंने CBSE Class 12 Board Exams 2021 को रद्द करने का फैसला किया था। राज्य द्वारा जल्द ही मूल्यांकन मानदंडों की घोषणा करने की उम्मीद है। परिणाम की तिथि अभी घोषित नहीं की गई है। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार, कक्षा 12 के परिणाम 31 जुलाई, 2021 तक आने की उम्मीद है।




.