10 अक्टूबर के लिए यूपीएससी प्रीलिम्स की कर रहे हैं तैयारी, अपना सकते हैं ये ट्रिक

UPSC Civil Services: यूपीएससी सिविल सर्विसेज प्रीलिम्स परीक्षा 10 अक्टूबर 2021 को आयोजित होने वाली है। प्रीलिम्स परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन देने के लिए उम्मीदवारों को परीक्षा से पहले कम से कम 2 बार अपने स्टडी मटेरियल का रिवीजन कर लेना चाहिए। यहां हम आपको 4 महीने में प्रीलिम्स परीक्षा सिलेबस रिवाइज करने की पूरी स्ट्रेटजी बता रहे हैं।

न्यूजपेपर रीडिंग: करंट अफेयर्स प्रीलिम्स परीक्षा का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है। न्यूज पेपर इन टॉपिक्स को अच्छे से कवर करने में मदद करता है। हालांकि, न्यूज पेपर पढ़ने में काफी समय लग जाता है इसलिए रिवीजन के समय केवल चुनिंदा खबरों को ही पढ़ें। इसे पढ़ने में 1 घंटे से ज़्यादा का समय न लगाएं। साथ ही राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय, साइंस और टेक्नोलॉजी और एडिटोरियल सेक्शन पर ज़्यादा ध्यान दें।

करंट अफेयर्स रिवीजन: करंट अफेयर्स की तैयारी करने के लिए न्यूज पेपर के अलावा आप मैगजीन और ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से भी रिवीजन कर सकते हैं। यूपीएससी प्रीलिम्स के लिए पिछले 24 महीनों के करंट अफेयर्स पर नजर रखें। उम्मीदवार ऑनलाइन उपलब्ध करंट अफेयर्स या फिर खुद के नोट्स से रिवीजन के लिए रोज 2 घंटे का समय दे सकते हैं।

स्टैटिक सब्जेक्ट: इसमें कुल 6 सब्जेक्ट होते हैं और इसका सिलेबस भी काफी बड़ा होता है। अगर आपको 90 दिनों के अंदर 6 सब्जेक्ट पढ़ने हैं तो इस हिसाब से उम्मीदवार इंडियन पालिटी और गवर्नेंस को 16 दिन में रिवाइज कर सकते हैं। हिस्ट्री आर्ट और कल्चर को 20 दिन में, जियोग्राफी 15 दिन में, इकोनॉमिक्स 10 दिन में, साइंस और टेक्नोलॉजी 20 दिन में और एनवायरमेंट और इकोलॉजी को 20 दिन में रिवाइज कर सकते हैं।

मॉक टेस्ट और प्रीवियस ईयर पेपर: प्रीलिम्स परीक्षा की तैयारी करने के लिए मॉक टेस्ट और पिछले साल के पेपर सॉल्व करना सबसे अच्छा तरीका है। इससे आपको परीक्षा पैटर्न और सवालों के प्रकार को समझने में आसानी होगी। उम्मीदवार परीक्षा के पहले जितना संभव हो सके उतने मॉक टेस्ट दें। हो सकता है कि शुरुआती कुछ टेस्ट में आपके नंबर अच्छे न हों लेकिन प्रैक्टिस के साथ इसमें जरूर सुधार आएगा। इससे प्रीलिम्स परीक्षा देने के लिए आपकी अच्छी प्रैक्टिस भी हो जाएगी।

यह न करें: उम्मीदवार प्रीलिम्स परीक्षा के‌ कुछ महीने पहले नए स्टडी मटेरियल का सहारा न लें। वह केवल अपने नोट्स और एनसीईआरटी की किताबों से ही रिवीजन करें। इसके अलावा अपने स्ट्रेटजी पर संदेह न करें और पूरे आत्मविश्वास के साथ पढ़ाई करें।




.