DM, SSP बनने के लिए कौन कितनी बार दे सकता है एग्जाम? इतनी चाहिए उम्र और पढ़ाई

संघ लोक सेवा आयोग 27 जून, 2021 को प्रारंभिक UPSC 2021 सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करेगा। UPSC के आधिकारिक वार्षिक परीक्षा कैलेंडर के अनुसार, मुख्य परीक्षा 17 सितंबर, 2021 को आयोजित की जाएगी। हालांकि यहां साफ करने की जरूरत है UPSC 2021 परीक्षा के लिए उपस्थित होने से पहले पात्रता मानदंड पूरी तरह से समझ लें। यूपीएससी परीक्षा के लिए पात्रता मानदंड के बारे में डिटेल्स यहां दी गई हैं।

राष्ट्रीयता: भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय विदेश सेवा और भारतीय पुलिस सेवा में आवेदन करने के लिए उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए। अन्य सेवाओं के लिए उम्मीदवार को या तो भारत का नागरिक होना चाहिए, या नेपाल, भूटान या तिब्बती शरणार्थी होना चाहिए। गैर-भारतीय उम्मीदवारों की राष्ट्रीयता के बारे में अधिक जानकारी के लिए, उन्हें नीचे दी गई आधिकारिक अधिसूचना चेक करने की सलाह दी जाती है।

आयु सीमा: UPSC 2021 सिविल सेवा परीक्षा में उपस्थित होने के लिए आयु सीमा, उम्मीदवार की आयु 1 अगस्त 2021 तक 21 से 32 साल के बीच होनी चाहिए। इसका मतलब यह है कि अभ्यर्थी का जन्म 2 अगस्त 1989 से पहले और 1 अगस्त 2000 के बाद नहीं हुआ हो। रिजर्व कैटेगरी के उम्मीदवारों के लिए ऊपरी आयु सीमा में छूट है। अधिकतम पांच साल तक की छूट अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवार को दी जाएगी। ओबीसी और रक्षा सेवा कार्मिक के लिए तीन साल की छूट मिलेगी। आगे के विवरण यूपीएससी द्वारा आधिकारिक अधिसूचना में दिए गए हैं।

न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता: यूपीएससी 2021 के लिए न्यूनतम शैक्षिक पात्रता मानदंड यह है कि उम्मीदवार के पास किसी सरकारी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए या समकक्ष योग्यता होनी चाहिए। वे उम्मीदवार जो परीक्षा के लिए उपस्थित हो रहे हैं और अपने रिजल्ट की प्रतीक्षा कर रहे हैं वे भी प्रारंभिक परीक्षा के लिए उपस्थित होने के पात्र हैं। जो उम्मीदवार योग्य होंगे, उन्हें मुख्य परीक्षा के लिए आवेदन के साथ अपनी उक्त परीक्षा पास करने का प्रमाण प्रस्तुत करना होगा। पेशेवर और तकनीकी योग्यता रखने वाले उम्मीदवार जो सरकार द्वारा पेशेवर और तकनीकी डिग्री के समकक्ष मान्यता प्राप्त हैं, वे भी सिविल सेवा परीक्षा में प्रवेश के लिए पात्र होंगे।

कितनी बार दे सकते हैं एग्जाम: परीक्षा में उपस्थित होने वाले प्रत्येक उम्मीदवार को सीएसई में छह बार एग्जाम देने की अनुमति होगी। प्रयासों की संख्या में छूट SC / ST / OBC और PwBD उम्मीदवारों जैसी कैटेगरी के लिए उपलब्ध होगी। एससी / एसटी उम्मीदवारों के लिए परीक्षा में असीमित प्रयास होंगे। प्रारंभिक परीक्षा में प्रयास को सिविल सेवा परीक्षा में एक प्रयास माना जाएगा। उम्मीदवारों को यूपीएससी पाठ्यक्रम और परीक्षा के बारे में अन्य जानकारी के बारे में जानने के लिए आधिकारिक अधिसूचना चेक करने की सलाह दी जाती है।




.